PM-KISAN: सरकारी योजना किसानों को सशक्त बना रही है

जानें कि कैसे PM-KISAN सरकारी पहल के माध्यम से किसानों को सशक्त बनाना चाहते है जिसका उद्देश्य प्रत्यक्ष आय सहायता प्रदान करना और उनकी आजीविका में बदलाव लाना है।

1. परिचय

   PM-KISAN का अवलोकन– पीएम-किसान, जिसका संक्षिप्त रूप प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि है, एक परिवर्तनकारी सरकारी पहल है जिसका उद्देश्य पूरे भारत में किसानों को प्रत्यक्ष आय सहायता प्रदान करना है। 

   किसानों के लिए योजना का महत्व– यह योजना किसानों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति को ऊपर उठाने और ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने में अत्यधिक महत्व रखती है।

2. PM-KISAN की पृष्ठभूमि

   उत्पत्ति और कार्यान्वयन– PM-KISAN की शुरुआत फरवरी 2019 में हुई जब पहली बार भारत सरकार द्वारा इसकी घोषणा की गई थी। 

   योजना के उद्देश्य-प्राथमिक उद्देश्य छोटे और सीमांत किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना था जो अक्सर विभिन्न सामाजिक-आर्थिक कारकों के कारण वित्तीय स्थिरता के साथ संघर्ष करते हैं। यह योजना 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की सरकार की प्रतिबद्धता का एक हिस्सा है।

3. PM-KISAN कैसे काम करता है

   पात्रता मापदंड– PM-KISAN एक सरल लेकिन प्रभावी तंत्र पर काम करता है। छोटे और सीमांत के रूप में वर्गीकृत पात्र किसान रुपये की प्रत्यक्ष आय सहायता प्राप्त करने के हकदार हैं। 

PM-KISAN
PM-KISAN

   पंजीकरण की प्रक्रिया– लाभ प्राप्त करने के लिए, किसानों को कुछ पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा और पंजीकरण प्रक्रिया पूरी करनी होगी। सरकार ने पंजीकरण प्रक्रिया को सुव्यवस्थित कर दिया है, जिससे यह देश भर के किसानों के लिए सुलभ हो गई है। एक बार पंजीकृत होने के बाद, धनराशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में वितरित की जाती है, जिससे समय पर सहायता सुनिश्चित होती है।

   धन का वितरण– एक मजबूत और पारदर्शी प्रक्रिया के माध्यम से 6000 सालाना तीन समान किस्तों में धनराशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में स्थानांतरित की जाती है। हर किस्त में किसानों के अकाउंट में 2,000 रुपये की राशि जमा की जाती है। इस योजना का लाभ पाने के लिए किसानों को (EKYC) और जमीन का सत्यापन कराना जरूरी है। सरकार की तरफ से 17 वी किस्त लागू भी हो गई है । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »